UPSC Mains 2019 सामान्य अध्ययन / GENERAL STUDIES  प्रश्न-पत्र-II / Paper-lI 

सामान्य अध्ययन /GENERAL STUDIES  प्रश्न-पत्र II/Paper II

निर्धारित समय : तीन घंटे , अधिकतम अंक : 250
Time Allowed : Three Hours  Maximum Marks : 250 

1. क्या आपके विचार में भारत का संविधान शक्तियों के कठोर पृथक्करण के सिद्धान्त को स्वीकार नहीं करता है, बल्कि यह ‘नियंत्रण एवं संतुलन’ के सिद्धान्त पर आधारित है ? व्याख्या कीजिए ।
Do you think that Constitution of India does not accept principle of strict separation , of powers rather it is based on the principle of ‘checks and balance’ ? Explain. 10 Marks 

2. “केन्द्रीय प्रशासनिक अधिकरण जिसकी स्थापना केन्द्रीय सरकार के कर्मचारियों द्वारा या उनके विरुद्ध शिकायतों एवं परिवादों के निवारण हेतु की गई थी, आजकल एक स्वतंत्र न्यायिक प्राधिकरण के रूप में अपनी शक्तियों का प्रयोग कर रहा है ।” व्याख्या कीजिए।

“The Central Administrative Tribunal which was established for redressal of grievances and complaints by or against central government employees, nowadays is exercising its powers as an independent judicial authority.” Explain. 10 Marks 

3. भारत में नीति निर्माताओं को प्रभावित करने के लिए किसान संगठनों द्वारा क्या-क्या तरीके अपनाए जाते हैं और वे तरीके कितने प्रभावी हैं ? What are the methods used by the farmers’ organisations to influence the policy makers in India and how effective are these methods ? 10 Marks  

4. न्यायालयों के द्वारा विधायी शक्तियों के वितरण से संबंधित मुद्दों को सुलझाने से, ‘परिसंघीय सर्वोच्चता का सिद्धान्त’ और ‘समरस अर्थान्वयन’ उभर कर आए हैं । स्पष्ट कीजिए।

From the resolution of contentious issues regarding distribution of legislative powers by the courts, ‘Principle of Federal Supremacy’ and ‘Harmonious Construction’ have . emerged. Explain.  10 Marks 

5. धर्मनिरपेक्षता को भारत के संविधान के उपागम से फ्रांस क्या सीख सकता है ?

What can France learn from the Indian Constitution’s approach to  secularism ? 10 Marks 

6. उच्च संवृद्धि के लगातार अनुभव के बावजूद, भारत के मानव विकास के निम्नतम संकेतक चल रहे हैं । उन मुद्दों का परीक्षण कीजिए, जो संतुलित और समावेशी विकास को पकड़ में आने नहीं दे रहे हैं ।

Despite Consistent experience of high growth, India still goes with-the lowest indicators of human development. Examine the issues that make balanced and inclusive development elusive. 10 Marks  

7. भारत में निर्धनता और भूख के बीच संबंध में एक बढ़ता हुआ अंतर है । सरकार द्वारा सामाजिक व्यय को संकुचित किए जाना, निर्धनों को अपने खाद्य बजट को निचोड़ते हुए खाद्येतर अत्यावश्यक मदों पर अधिक व्यय करने के लिए मजबूर कर रहा है । स्पष्ट कीजिए ।

There is a growing divergence in the relationship between poverty and hunger in India. The shrinking of social expenditure by the government is forcing the poor to spend more on non-food essential items squeezing their food-budget. — Elucidate. 10 Marks  

8. सूचना और संप्रेषण प्रौद्योगिकी (आई.सी.टी.) आधारित परियोजनाओं/कार्यक्रमों का कार्यान्वयन आम तौर पर कुछ विशेष महत्वपूर्ण कारकों की दृष्टि से ठीक नहीं रहता है । इन कारकों की पहचान कीजिए और उनके प्रभावी कार्यान्वयन के उपाय सुझाइए। Implementation of Information and Communication Technology (ICT) based Projects/Programmes usually suffers in terms of certain vital factors. Identify these factors, and suggest measures for their effective implementation. 10 Marks 

11.किन आधारों पर किसी लोक प्रतिनिधि को, लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 के अधीन निरहित किया जा सकता है ? उन उपचारों का भी उल्लेख कीजिए जो ऐसे निरहित व्यक्ति को अपनी निरर्हता के विरुद्ध उपलब्ध हैं। 

On what grounds a people’s representative can be disqualified under the Representation of Peoples Act, 1951 ? Also mention the remedies available to such person against his disqualification. 15 Marks

12.“संविधान का संशोधन करने की संसद की शक्ति एक परिसीमित शक्ति है और इसे आत्यंतिक शक्ति के रूप में विस्तृत नहीं किया जा सकता है।” इस कथन के आलोक में व्याख्या कीजिए कि क्या संसद संविधान के अनुच्छेद 368 के अंतर्गत अपनी संशोधन की शक्ति का विशदीकरण करके संविधान के मूल ढांचे को नष्ट कर सकती है ?

(“Parliament’s power to amend The Constitution is a limited power and it cannot be enlarged into absolute power.3 In the light of this statement explain whether Parliament under Article 368 of the Constitution can destroy the Basic Structure of the Constitution by expanding its amending power ?— 15 Marks

13. “स्थानीय स्वशासन की संस्थाओं में महिलाओं के लिए सीटों के आरक्षण का भारत के राजनीतिक प्रक्रम के पितृतंत्रात्मक अभिलक्षण पर एक सीमित प्रभाव पड़ा है ।” टिप्पणी कीजिए।

“The reservation of seats for women in the institutions of local self-government has had a limited impact on the patriarchal character of the Indian Political Process.”Comment. 15 Marks

14. “महान्यायवादी भारत की सरकार का मुख्य विधि सलाहकार और वकील होता है।” चर्चा कीजिए । “The Attorney-General is the chief legal adviser and lawyer of the Government of India.” Discuss. 15 Marks

 15. राष्ट्रीय विधि निर्माता के रूप में अकेले एक संसद-सदस्य की भूमिका अवनति की ओर है, जिसके फलस्वरूप वादविवादों की गुणता और उनके परिणामों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ भी चुका है । चर्चा कीजिए। Individual Parliamentarian’s role as the national law maker is on a decline, which in turn, has adversely impacted the quality of debates and their outcome. Discuss. 15 Marks

16. ‘विकास योजना के नव-उदारी प्रतिमान के संदर्भ में, आशा की जाती है कि बहु-स्तरी योजनाकरण संक्रियाओं को लागत प्रभावी बना देगा और अनेक क्रियान्वयन रुकावटों को हटा देगा ।’ चर्चा कीजिए। ‘In the context of neo-liberal paradigm of development planning, multi-level planning is expected to make operations cost-effective and remove many implementation . blockages.’ Discuss. 15 Marks

17. विभिन्न सेवा क्षेत्रकों के बीच सहयोग की आवश्यकता विकास प्रवचन का एक अंतर्निहित घटक रहा है । साझेदारी क्षेत्रकों के बीच पुल बनाती है । यह ‘सहयोग’ और ‘टीम भावना’ की संस्कृति को भी गति प्रदान कर देती है । उपरोक्त कथनों के प्रकाश में भारत के विकास प्रक्रम का परीक्षण कीजिए।

The need for cooperation among various service sectors has been an inherent component of development discourse. Partnership bridges the gap among the sectors. It also sets in motion a culture of ‘collaboration’ and ‘team spirit’. In the light of statements above examine India’s development process. 15 Marks

18. सुभेद्य वर्गों के लिए क्रियान्वित की जाने वाली कल्याण योजनाओं का निष्पादन उनके बारे में जागरूकता के न होने और नीति प्रक्रम की सभी अवस्थाओं पर उनके सक्रिय तौर पर सम्मिलित न होने के कारण इतना प्रभावी नहीं होता है। – चर्चा कीजिए ।

Performance of welfare schemes that are implemented for vulnerable sections is not so effective due to absence of their awareness and active involvement at all stages of policy process. Discuss 15 Marks

 19. ‘उभरती हुई वैश्विक व्यवस्था में, भारत द्वारा प्राप्त नव-भूमिका के कारण, उत्पीड़ित एवं उपेक्षित राष्ट्रों के मुखिया के रूप में दीर्घ काल से संपोषित भारत की पहचान लुप्त हो गई है ।’ विस्तार से समझाइये ।

“The long-sustained image of India as a leader of the oppressed and marginalised nations has disappeared on account of its new found role in the emerging global order.’ Elaborate. — 15 Marks

20. ‘भारत और यूनाइटेड स्टेट्स के बीच संबंधों में खटास के प्रवेश का कारण वाशिंगटन का अपनी वैश्विक रणनीति में अभी तक भी भारत के लिए किसी ऐसे स्थान की खोज करने में विफलता है, जो भारत के आत्म-समादर और महत्वाकांक्षा को संतुष्ट कर सके ।’ उपयुक्त उदाहरणों के साथ स्पष्ट कीजिए ।

“What introduces friction into the ties between India and the United States is that Washington is still unable to find for India a position in its global strategy, which would satisfy India’s national self-esteem and ambitions.’ Explain with suitable examples.—15 Marks

Download-UPSC-Mains-2019-General-Studies-Paper-II-Exam-Question-Paper

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>