कैरियर सुरक्षा कार्यक्रम क्या है?

कैरियर सुरक्षा कार्यक्रम का अर्थ है छात्रों के कैरियर और उसकी सुरक्षा, उसके भविष्य से संबंधित आयामों और इस परीक्षण की पूरी जवाबदेही लेना और उन्हें ऐसा बनाना जिससे वे जीवन में निश्चित सफलता प्राप्त कर सकें। इसका अर्थ सफलता के अर्थ को पुन: परिभाषित करना भी है ।

जिन्हें भी लगता है कि IIT और PMT को पास कर लेना ही सफलता है उन्हें यह भी बताना है कि सफलता का एक मात्र यही उद्देश्य नहीं होता। हमारा ध्येय विशेषकर गैरविज्ञान वर्ग के विद्यार्थियों के लिए, एक विकल्प उपलब्ध कराना है जिससे वे सुरक्षित और निश्चित कैरियर बना सकेA इन सभी मानविकी विद्यार्थियों के भविष्य की पूरी जवाबदेही लेना उन्हें तराशना, सिखाना और मार्गदर्शन करना जो या तो ग्रेजुएशन के प्रथम/द्वितीय वर्ष में है।

भविष्य और कैरियर का सुरक्षा देना हमारा मुख्य ध्येय है। हमारे लिए प्रतिभा का अर्थ यह है कि उनकी रचनात्मक क्षमता, भाषिक कुशलता, संगठनात्मक क्षमता, वक्तृत्व कौशल, आदि सभी का विकास हो। यहां तक कि और कई चीजों के बारे में छात्रों को पता भी नहीं होता उनको उनकी उस प्रतिभा से अवगत कराना है जो उनके लिए वास्तविक मार्गदर्शन का काम कर सके। इससे उनके कैरियर को तेजी से परिवर्तित किया जा सकता है।

हमारा प्रस्ताव

  • हमारे कार्यक्रम का प्रारूप ऐसा है जिसमें विश्वविद्यालय की परीक्षा उत्तीर्ण कर चुके या कॉलेजों के प्रथम वर्ष या वित्तीय वर्ष के विद्यार्थियों को तराश कर उन्हें ऐसा मार्गदर्शन दिया जा सके जिससे कि उनके कैरियर को निश्चित ढांचा दे सकें।  ये विभिन्न कैरियर हैं:
  • एक प्रशासनिक अधिकारी के रूप में
  • एक विश्व प्रसिद्ध शिक्षाविद के रूप में (जो भारत के विश्व गुरु की दिशा में बड़ा कदम है)
  • एक राष्ट्रीय ख्याति के पत्रकार के रूप में
  • एक अंतर्राष्ट्रीय उद्योगपति के रूप में भी हो सकती है।

ENSEMBLE द्वारा चुने हुए विद्यार्थियों को स्नातक के उपरांत कैरियर की सुरक्षा के जितने भी आयाम हो सकते हैं उन्हें उनकी मनोवृत्ति अनुकूल प्रदान किया जाएगा।

जैसे:

  • सिविल सेवा की तैयारी
  • विश्व स्तर के वि श्वविद्यालयों में प्रवेश
  • लेखक और संपादक बनने का कौशल
  • सेना में उच्च पद
  • विश्वविद्यालय में व्याख्याता का पद
  • अति ग्लैमरस निजी क्षेत्र में मुद्रा अर्जन करने वाले पद और
  • यहां तक कि भविष्य की राजनीति में हिस्सा लेकर देश के लिए नीति निर्माण कार्य के लिए भी। प्रशासनिक सेवाएं: भारतीय प्रशासनिक सेवा अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है, इसके अधिकारी अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं।IAS तथा IPS में सीधी भर्ती संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से की जाती है। इसके अलावा राज्य स्तर पर भी विद्यार्थियों को अवसर मिलता है कि वह राज्य सेवा आयोग (State PSC) के माध्यम से प्रशासनिक अधिकारी बन सके।

JRF NET: अकादमिक क्षेत्र में प्रवेश के इच्छुक छात्र जूनियर रिसर्च फैलोशिप (जेआरएफ नेट) की परीक्षा उत्तीर्ण कर के सरकारी महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में बेहतरीन करियर बना सकते हैं।

आजकल शिक्षा में आई क्रांति के फलस्वरूप भारत में व्याख्याता और अन्य शिक्षकों की मांग बढ़ गई है और यह मांग बढ़ती ही जाएगी। व्याख्याता और शिक्षक आराम और सम्मान के साथ प्रत्येक महीने में एक से डेढ़ लाख कमा सकते हैं।

प्रबंधन प्रशासन: वर्तमान युग में प्रबंधन विशेषकर कृषि प्रबंधन, स्थानीय प्रबंधन एक अत्यधिक महत्वपूर्ण कार्य है। प्रबंधन में निजी क्षेत्र के अधिकांश उच्च पद शामिल हैं। प्रबंधन के क्षेत्र में करियर की अनंत संभावनाएं हैं। प्रबंधन में ट्रेनिंग से लेकर उद्यमी भी बन सकते हैं और साल में 36 लाख से एक करोड़ पैसे कमा सकते हैं।

उससे भी अधिक निजी क्षेत्र की नौकरियां इस समय तेजी से विस्तार हो रहा है सरकारी क्षेत्र के स्थान पर इस समय निजी क्षेत्र में करियर के अधिक विकल्प हैं।

अकादमिक क्षेत्र: वर्तमान युग में अकादमिक क्षेत्र में अनंत संभावनाओं के द्वार खुल चुके हैं। छात्र अध्यापन पठन-पाठन एवं लेखन के क्षेत्र में प्रवेश करके अपना भविष्य संवार सकते हैं। संपादक और लेखक वर्ष भर में अपनी पुस्तकों और संपादन से 15 से 80 लाख तक अर्जित कर सकते हैं और साल दर साल से इन विद्यार्थियों के कैरियर को सुनिश्चित करने के लिए ENSEMBLE द्वारा एक अद्वितीय शिक्षा पद्धति का समावेश किया गया है।

कर्मचारी चयन आयोग (SSC): कर्मचारी चयन आयोग का कार्य भारत सरकार के मंत्रालयों विभागों सम्बद्ध और अधीनस्थ कार्यालयों और CAG एवं महालेखाकारों के कार्यालयों में गैर तकनीकी समूह (ग) और  (ख) के और राजपत्रित पदों में भर्ती करना है। इसमें हर वर्ष लाखों की तादाद में वैकेंसी निकाली जाती है। इसके लिए अगर अभ्यर्थी अच्छे से तैयारी करें तो उसका रोजगार निश्चित है

राजनीति: राजनीति भी वर्तमान समय में एक आकर्षक कैरियर है इसके लिए स्वतंत्र चेतना, वाक शक्ति के साथ संघर्षशील व्यक्तित्व आवश्यक है। अतः जिन छात्रों की रुचि राजनीति में है वह इसमें अपना करियर बना सकते हैंA ENSEMBLE ऐसे चुनिंदा छात्रों को भाषण देने की कला, क्षेत्र प्रबंधन नीति निर्धारण, मीडिया प्रबंधन, आदि सभी की ट्रेनिंग देगा।

इसे कैसे किया जाएगा?

इसे करने के लिए विद्यार्थी के लिए 2 वर्षों के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा, अर्थात जब तक वे कॉलेज की पढ़ाई पूरी करेंगे उसी समय वे अपने करियर को भी नया स्वरूप प्रदान करेंगे और इस दौरान वे अपने ना केवल प्रतिभा बल्कि पूरे व्यक्तित्व में संपूर्ण बदलाव ला पाएंगे।

इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य उन्हें अच्छी शिक्षा का एक बेहतर आधार प्रदान करना है जिससे उनके विश्वविद्यालय की परीक्षा भी बेहतर हो सकेA इसके तादाद उनकी स्कूली शिक्षा के सारे दोषों को दूर कर एक नया परिपेक्ष्य देना है। यह आधार छात्रों को अपने भविष्य को भी सुदृढ़ कर पाने और उन्हें बहुआयामी स्वरूप पाने में मदद करता है। इन विद्यार्थियों के कैरियर को सुरक्षित सुनिश्चित करने के लिए ENSEMBLE द्वारा एक अद्वितीय शिक्षा पद्धति का समावेश किया जाएगा जिसमें भाषा, ज्ञान, जानकारी को न केवल किताबों के माध्यम से बल्कि तकनीक, जैसे वीडियो की नवीनतम प्रौद्योगिकी के सहारे भी वैचारिक स्पष्टता लाने का, भारत में प्रथम प्रयास है।

इसको निश्चित करने के लिए चरणबद्ध कार्यक्रम द्वारा शुरुआत किया जाएगा। जिसमें विद्यार्थियों की समस्याओं पर ध्यान दिया जाएगा। उनकी स्कूली शिक्षा में रह गयी सारी कमियों को पूरा किया जाएगा और इस प्रकार से एक ऐसा आधार तैयार कर लिया जाएगा जिसकी पृष्ठभूमि पर उनके कैरियर को सुनिश्चित दिशा और परिणाम दिया जा सकेगा।

इसका प्रभाव यह पड़ेगा कि जब तक विद्यार्थी अपने ग्रेजुएशन को पूरा करें तब तक उनके पास अपना एक कैरियर, सुनिश्चित कैरियर तैयार हो जाए।

ENSEMBLE की शिक्षण विधियां/शिक्षा विज्ञान

अध्यापन के आधुनिक तकनीकों का प्रयोग – पॉवर प्वाइंट, इलेक्ट्रॉनिक बोर्ड और एनीमेशन प्रौद्योगिकी शामिल है।

वेब सुविधा/ऑनलाइन सुविधा अपने ज्ञानवर्द्धन कर सकते हैं।

अध्ययन सामग्री परीक्षा उपयोगी अध्ययन सामग्री और मौलिक लेखन के लिए ENSEMBLE के पास 30 से अधिक शोधकर्ता एवं लेखक हैं। इस दल के कठिन परिश्रम के कारण ही ENSEMBLE के छात्रों को अधिकांशतः कभी भी बाहरी सामग्री का सहारा नहीं लेना पड़ता है और वे परीक्षा में शीर्ष रैंक हासिल करते हैं।

यह अध्ययन सामग्री पुस्तकों, नोटस एवं सारांशों का मिला जुला स्वरूप है, और विद्यार्थियों को यह (वसिपदम) और विदसपदम दोनों रूप में आपूर्ति की जाती है। इस अध्ययन सामग्री का मुख्य उद्देश्य है विद्यार्थियों को देश, विदेश की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों को सम्मिलित कर, संकलित कर एक ऐसी सामग्री दी जाए, जिसके बाहर विद्यार्थियों को कुछ भी देखने की आवश्यकता नहीं पड़े। लाइब्रेरी की सुविधा प न ) ENSEMBLE अपने पोर्टल में एक ऐसी पुस्तकालय की सुविधा प्रदान करता है, जिसमें परीक्षा के लिए आवश्यकता की सारी सामग्री मिल जाती है।

सुनिश्चित कैरियर की ओर क्रमबद्ध एवं वैज्ञानिक कदम

श्री के.सिद्धार्थ ने अपने शोध कार्यों द्वारा प्रत्येक विद्यार्थी के प्रतिभानुकूल चरणों का प्रतिपादन किया है, जिससे विद्यार्थियों को एक निश्चित दिशा, उद्देश्य और सफलता हासिल करायी जाएगी। जिस सफलता के लिए वह सबसे बेहतर हैं।

पहला चरण एक सामान्य टेस्ट, जिसके तहत विद्यार्थियों के शिक्षा स्तर को जाना जा सके।
दूसरा चरण सभी विद्यार्थियों को उनकी प्रतिभा के अनुकूल वर्गीकृत और श्रेणीबद्ध किया जाएगा।
तीसरा चरण अलग-अलग श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग प्रकार का प्रशिक्षण, जैसे अंग्रेजी में कमजोर विद्यार्थियों के लिए अलग व्यवस्था, स्मृति में कमजोर विद्यार्थियों की अलग व्यवस्था, भाषा की कमजोरी की अलग व्यवस्था, असंतुलित नजरिया वालों के लिए अलग….इत्यादि।
चौथा चरण सभी विद्यार्थियों को एक समान स्तर पर लाने के लिए विभिन्न पाठ्यक्रमों एवं तकनीकों का सहारा
पांचवा चरण एक आधारशिला और बुनियादी 6 महीने की कक्षा जिसके तहत विद्यार्थियों को एक ठोस तैयारी करायी जाएगी, जो सभी परीक्षाओं और कैरियर के लिए समान रूप से उपयोगी होगी।

इसमें उनके भाषा कौशल, नजरिया संकलन, सूचना और संकल्पना स्टार में कमी की पूर्ती, स्कूली शिक्षा में कमी की पूर्ती, कल्पना शक्ति का विकास, संपादन कौशल, नेतृत्व कौशल, इत्यादि। तैयारी करने की कला, श्रम करने की कला इत्यादि का विकास किया जायेगा।

छठा चरण अलग-अलग मानसिकता, प्रतिभा, और मनोवृत्ति वाले विद्यार्थियों की अलग-अलग परीक्षाओं के लिए एक ऐसी गहन और ठोस तैयारी, जिससे उनके असफल होने की गुंजाइश ही नहीं रहे। जैसे सिविल सेवा की गहन तैयारी जिसमें UPSC और State PCS की तैयारी प्रमुख होगी।
सातवां चरण व्यक्तित्व विकास एवं प्रशिक्षण शिविर जिसमें विद्यार्थियों को अलग प्रतियोगी परीक्षा के लिए मनोवृत्ति विकास पर शिविर की स्थापना की जाएगी।
आठवां चरण विद्यार्थियों को वदसपदम ेनचचवतज का पासवर्ड देकर उन्हें विदा किया जाएगा, जिससे कि उन्हें निरंतर संपर्क बनाया जा सके।
नौवां चरण परीक्षा के ठीक पहले संवर्द्धन कक्षाओं के लिए विद्यार्थियों से संपर्क।

 

विस्तृत विवरण

प्रथम चरण

अध्ययन पक्ष यह क्यों महत्वपूर्ण है यह कैसे आपकी मदद करेगा
अभिव्यक्ति कौशल और ठवकल स्ंदहनंहम सभ्य होने के लिए,

अत्यधिक स्वीकार्यता के लिए,

ऐसे दोस्त बनाएँ जो मददगार हो

साक्षात्कार में,

शिक्षकों के बीच प्रिय बनने के लिए

 

भाषा सुधार विद्यार्थी जो कहना चाहते हैं उससे आसानी से कह सकें,

अच्छे उत्तर लिखने के लिए,

अच्छा बोलने के लिए,

ब्ै।ज् में,

ैैब् तथा अन्य परीक्षाओं के लिए

 

सभी स्कूली पुस्तकों का रिविजन विद्यार्थी को तीन चरणों में होने वाली परीक्षा के पहले चरण के लिए पहले वर्ष की तैयारी के लिए ैैब्, राज्य स्तरीय लोक सेवा आयोग तथा अन्य परीक्षाओं के लिए
बैज की तैयारी विद्यार्थियों की सोच को और तेज बनने के लिए और उनकी गणितीय क्षमता को अधिक सुदृढ़ बनने के लिए ैैब् तथा अन्य दूसरी परीक्षाओं के साथ बैंक च्व् में

 

 

द्वितीय चरण

अपने आप को समझना, अपने माता-पिता और शिक्षकों को अपनी क्षमता को जानने के लिए व्यक्तित्व के विकास और साक्षात्कार में
अपने परिवेश को समझना अपनी क्षमता का निर्माण करना व्यक्तित्व के विकास और साक्षात्कार में
मेल-जोल बढ़ाकर सामाजिक पूंजी अर्जित करना   तैयारी को सहज बनाने में और अपने कार्य के वितरण में
कक्षा में विश्व भ्रमण विश्व के भूगोल को समझने के लिए तथा विश्व इतिहास, अंतर्राष्ट्रीय संबंध, भूगोल और समसामयिक संबन्धों के ठोस आधार निर्माण के लिए न्च्ैब् की प्रारम्भिक परीक्षा में, ैैब् में, अन्य किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं में
विश्व की अनेक घटनाओं (आयोजनों) और उनकी पृष्ठभूमि की जानकारी अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय और सामयिक घटनाओं की व्यवस्थित जानकारी के लिए आसानी से अखबार पढ़ें, ताकि उस सभी सवालों के जवाब दिये जा सकें जो समाज, भारतीय राजनीतिक पृष्ठभूमि और विदेश नीति से पूछे जाते हैं

 

विभिन्न माध्यमों से सीखना, जैसे फिल्में, पुस्तकें, अभिभावकों, अध्यापकों तथा टीवी सिर्फ पुस्तकों के माध्यम से सीखना नहीं बल्कि सीखने के उन सभी माध्यमों का उपयोग जिनसे आनंद आए निबंध लेखन और सामान्य ज्ञान के लिए, चाहे जहां भी इसकी जरूरत हो
समाचार पत्रों का अध्ययन समसामयिक विषयों की तैयारी के लिए विश्व की किसी भी परीक्षा के लिए

 

प्रारम्भिक परीक्षा के लिए सामान्य अध्ययन में महारत जो भी अध्ययन किया गया है उसका रिविजन अब विद्यार्थी कोई भी पीसीएस परीक्षा दे सकते हैं

 

मुख्य परीक्षा के लिए पहले चरण के सामान्य अध्ययन की तैयारी प्रत्येक अध्याय की जानकारी और रूपरेखा विद्यार्थी कहीं भी तैयारी कर रहे विद्यार्थियों की बराबरी कर सकते हैं

 

 

तृतीय चरण

प्रारम्भिक परीक्षा के ब्ै।ज् की विशेषज्ञता अभ्यास व्यक्ति को पूर्ण बनाता है योग्यता के लिए सुरक्षा में निश्चितता प्रदान करना
प्रारम्भिक परीक्षा की तैयारी के लिए अभ्यास अभ्यास व्यक्ति को पूर्ण बनाता है योग्यता के लिए सुरक्षा में निश्चितता प्रदान करना
मुख्य परीक्षा के लिए, सामान्य अध्ययन का रिविजन अभ्यास व्यक्ति को पूर्ण बनाता है योग्यता के लिए, सुरक्षा में निश्चितता प्रदान करने के लिए
मुख्य परीक्षा के लिए वैकल्पिक विषय में ज्ञान, विश्लेषण और अभिव्यक्ति के स्तर पर सुधार इससे छात्र सुरक्षित महसूस करेंगे  
निबंध की सम्पूर्ण तैयारी लेखन और अभिव्यक्ति योग्यता के लिए सुरक्षा में निश्चितता प्रदान करना

 

 

चतुर्थ चरण

सामान्य अध्ययन का अभ्यास    
कार्यक्रम पूरा होने के बाद छात्रों के लिए सहायक कोर्स    

 

पांचवा चरण

साक्षात्कार विशेषज्ञता

  1. अभिव्यक्ति में विशेषज्ञता
  2. साक्षात्कार लेने वाले की मनः स्थिति को समझना
  3. अपने वक्तव्य का बचाव करना
  4. अपने आपमें माहिर बनना
  5. अपने आत्मवृत्त से पूछे जाने वाले सवालों में माहिर होना
  6. विचारों में संतुलन रखना
  7. आवाज की लय और उतार-चढ़ाव को ठीक करना
  8. अपनी गलत आदतों को चिन्हित करना और उन्हें दूर करना
  9. तमीज और शिष्टाचार की भूमिका
  10. शौक और रुचियाँ
  11. साक्षात्कार के लिए परिधान (ड्रेसिंग)
  12. साक्षात्कार के लिए अनुकूल बॉडी लैंगवेज
  13. विभिन्न प्रकार के साक्षात्कारों का अनुभव

प्रश्नोत्तर (Quiz)

साक्षात्कारों का अनुभव 

  1. बड़े साक्षात्कारों का अनुभव
  2. तनावपूर्ण साक्षात्कारों का अनुभव
  3. विशेषीकृत साक्षात्कारों का अनुभव
  4. विषय आधारित साक्षात्कारों का अनुभव
  5. छोटे प्रश्नों पर आधारित साक्षात्कारों का प्रबंधन
  6. समूह चर्चाओं में दूसरों को सहमत करना
  7. सामयिक अध्ययन

इसमें शामिल व्यक्ति (सलाह, मार्गदर्शक, शिक्षक मंडल)

नाम विषय प्रोफाइल
डॉ रवि पाठक राज्यव्यवस्था 20 वर्षों का अनुभव
श्री के. सिद्धार्थ विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भूगोल, पर्यावरण, अंतर्राष्ट्रीय संबंध, विरासत www.ksiddhartha.com

(सलाह, मार्गदर्शक, शिक्षक मंडल)

डॉ आदर्श कुमार

श्री नवीन प्रूथी

राजनीति और सामान्य अध्ययन 15 वर्षों का अनुभव

15 वर्षों का अनुभव

श्रीमति डॉ. एस. मुखर्जी भूगोल भूगोल पर 12 पुस्तकों की लेखक
  सत्यनिष्ठा प्रेरक
  इतिहास भारतीय इतिहास के प्रख्यात विद्वान
  अर्थशास्त्र अर्थशास्त्र के प्रख्यात विद्वान
श्री रामेश्वर अर्थशास्त्र अर्थशास्त्र के प्रख्यात विद्वान
  व्यक्तित्व विकास प्रशासन, सत्यनिष्ठा और विविध विषयों के विद्वान
श्री डॉ आदर्श कुमार राजनीति और प्रशासन प्रशासन, सत्यनिष्ठा और विविध विषयों के विद्वान
श्री नागेश तिवारी इतिहास  
श्री संतोष राय हिंदी  

मानद संकाय, सलाहकार समिति

संकल्पना की वर्तमान स्थिति

  1. पायलट प्रोजेक्ट प्रगतिपथ पर निरन्तरता बनाये हुए है और सफलतापूर्वक बिहार के दो महाविद्यालय में चल चुका है। पटना विमेन्स कालेज एवं जे.डी. विमेन्स कालेज।

इसी क्रम में देश के विभिन्न कालेजों में भी यह कार्यक्रम प्रस्तावित भी है। यथा रामानुजन कालेज; दिल्ली, शांतिनिकेतन, गुजरात विश्वविद्यालय, एवं कर्णावती विश्वविद्यालय।

  1. प्रतिष्ठित शिक्षकों की उपलब्धता।
  2. तैयार पठन-पाठन सामग्री।
  3. पूर्व से क्रियाशील हमारे पोर्टल द्वारा ऑनलाइन सुविधा ।

हमारा सामर्थ्य (Strength)

  1. विश्व ख्याति प्राप्त व्यक्तित्व जिनमें सम्मिलित व्यक्तित्व हैं-     प्रधानमंत्री के सलाहकार, भारत सरकार के कई सचिव एवं   राष्ट्रीय स्तर के शिक्षाविद्।
  2. बहुत उच्च शैक्षणिक साख जिसमें छः विश्वविद्यालयों के उप-    कुलपति भी सम्मिलित हैं।
  3. संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा के पिछले 1553 सफल परिणाम।
  4. हमारे चीफ मेण्टर के 25 वर्षों का सफल अनुभव व उनकी   विश्व ख्याति।
  5. सिविल सेवा विद्यार्थियों   पर समर्पित एक digital channel

हमारे विशेषता (USP)

वर्तमान समय में ब्ैच् हमारी और सिर्फ हमारी क्षमता है कि यह भी कि इस कार्यक्रम को लागू करवाकर, क्रियान्वयित कर उसे अंतिम स्वरूप दिया जा सके, ब्राण्ड ब्ैच् हमारे साथ जुड़ा हुआ है।

CSP और उसकी योजना देश के प्रबुद्ध व्यक्तियों का साथ मिलाकर लागू किया गया है। इन लोगों ने साक्षात्कार कार्यक्रम को भारत का सबसे बेहतर साक्षात्कार और व्यक्तित्व विकास कार्यक्रम बनाया है। यह माननीय सदस्य देश के नीति निर्धारण में कार्यरत रहे हैं। इनका साहचर्य और सानिध्य इंसेबल के विद्यार्थियों को एक विशिष्ट दर्जा देता है।

  1. संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य
  2. श्री प्रकाश सिंह, प्च्ै (पूर्व क्ळच् उत्तर प्रदेश) संघ लोक सेवा आयोग के सलाहकार

श्री एन.के. सिंह, प्च्ै (पूर्व संयुक्त निदेशक सीबीआई)

  1. डा. कमर आसान, (उप कुलपति, दुमका विश्वविद्यालय)
  2. श्री एस. वर्मा, अर्थशास्त्री, प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार
  3. श्री बी.एल.वोहरा प्च्ै (त्रिपुरा के पूर्व पुलिस महानिदेशक)
  4. प्रो. एम.पी.सिंह (पूर्व प्रोफेसर, राजनीति विज्ञान दिल्ली विश्वविद्यालय)
  5. श्री के.सिद्धार्थ, (विश्व प्रसिद्ध भूविज्ञानी, शिक्षाविद्, संरक्षक और अंतर्राष्ट्रीय वक्ता)