Seed | बीज | डॉ.एस. मुखर्जी

बीज (Seed ) का महत्व कृषि एवं सभी प्रकार के तन्त्र में सर्वाधिक महत्वपूर्ण एवं आधारिक आगत।

बीज (Seed ) एक परिपक्व बीजाण्ड है,जो निषेचन के बाद क्रियाशिल होता है,बीज उचित परिस्थितिया जैसे जल,वायु,सूर्य प्रकाश आदि मिलने पर क्रियाशिल होता है।

  • सबसे सस्ता व कृषि अर्थव्यवस्था के प्रारूप को निर्धारित करने वाला।
  • अच्छी गुणवत्तायुक्त बीज से ही हरित क्रान्ति सफल।
  • बीज वर्धन के चरण

View our Blog: https://ensembleias.com/blog/

1. Breader’s Seed (प्रजनक बीज ) – उन्नत किस्म + शतप्रतिशत आनुवांशिक व भौतिक शुद्धता।

2. Foundation Seed (आधार बीज) – प्रजनक बीज के गुणन से उत्पन्न, विशेष मानको के आधार पर जिससे आनुवांशिक व भौतिक शुद्धता बनी रहें।

3. Certified Seed (प्रमाणित बीज) – आधार में गुणन से उत्पादित।

इसकी वृद्धि नियमानुकूल – उत्तम खेत, आवश्यक खाद, फसल निरीक्षण, सुरक्षा, फसल तैयारी, बीज सफाई, भण्डार इत्यादि सम्मिलित हैं। गुणवत्ता की जाँच करके ‘अच्छे बीज‘ से प्रमाणित किया जाता हैं। राज्य बीज निगम, राष्ट्रीय बीज निगम, राज्य फार्म निगम, गैर सरकारी संस्थाएं व कृषि विश्वविद्यालय सभी बीजो का गुणन व वितरण करने में सहायक।

Visit our store at http://online.ensemble.net.in

पूरा वीडियो प्राप्त करने के लिए संपर्क करें For more details : Ensemble IAS Academy Call Us : +91 98115 06926, +91 6232282596 Email: ensembleias@gmail.com https://ensembleias.com/

#seed #germ #grain #cause #pearl #origin #बीज #geographyoptional #upsc2020 #ias #ensembleiasacademy #डॉ_एस_मुखर्जी #Dr_S_Mukherjee